Connect with us

आदि कैलाश,ओम पर्वत,ज्योंलिंगकॉग के हैलिकॉप्टर से दर्शन आरम्भ, पहले दिन 16 यात्रियों ने किए दर्शन

उत्तराखण्ड

आदि कैलाश,ओम पर्वत,ज्योंलिंगकॉग के हैलिकॉप्टर से दर्शन आरम्भ, पहले दिन 16 यात्रियों ने किए दर्शन

पिथौरागढ़ – सीमांत जिले में पर्यटन को बढ़ाओ देने के लिए जिला प्रशासन एवं उत्तराखंड टूरिज्म बोर्ड के द्वारा निरंतर प्रयास किये जा रहे हैं

पहले दिन गुजरात, आन्ध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, उडीसा, दिल्ली एवं हरियाणा से 16 यात्रियों द्वारा आदि कैलाश एवं ओम पर्वत,ज्योंलिंगकॉग के किए दर्शन जिसमें 09 पुरूष एवं 07 महिलाएं शामिल थी। पिथौरागढ़ में पर्यटन को बढ़ावा दिये जाने के उद्देश्य से उत्तराखण्ड पर्यटन विभाग द्वारा एक दिवसीय हैली दर्शन यात्रा रूदाक्ष ऐवियेशन प्रा0लि0, ट्रिप टू टैम्पल एवं के०एम०वी०एन० के सहयोग से करवायी जा रही है, जिसमें यात्रियों को पिथौरागढ से आदि कैलाश एवं ओम पर्वत की लगभग 02 घण्टे की हवाई यात्रा करायी गयी, आज सोमवार 01 अप्रैल के दल में भारत के विभिन्न राज्यो यथा- गुजरात, आन्ध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, उडीसा, दिल्ली एवं हरियाणा से 16 यात्रियों द्वारा यात्राएं की गयी, जिसमें 09 पुरूष एवं 07 महिलाएं सम्मिलित रही।

यह भी पढ़ें -  बढ़ेगा प्रशासकों का कार्यकाल,अक्टूबर में होंगे नगर निकाय चुनाव ?


वहीं यात्रियों द्वारा नैनीसैनी एयरपोर्ट पिथौरागढ
पहुंचने पर बताया कि हमें आदि कैलाश एवं ओम पर्वत के बहुत अच्छे दर्शन हुए और हम अपने घर लौटकर अपने शहर के लोगों को भगवान शंकर के निवास स्थान आदि कैलाश एवं ओम पर्वत के बारे में बताएंगे व लोगों को भी प्रेरित करेंगे, नैनीसैनी एयरपोर्ट पहुंचने पर यात्रियों मैं एक गजब की शिव भक्ति देखने को मिली, पूरा एयरपोर्ट परिसर बम-बम भोले बाबा की जयकारों से गुंजा पडा, यात्रियों द्वारा जिला प्रशासन पर्यटन विभाग एवं एयर अथॉरिटी की भी सराहना की कहा जिस प्रकार के इंतजाम किए गए थे उससे निश्चित ही आने वाले समय में उत्तराखंड मे पर्यटन बढ़ेगा।

यह भी पढ़ें -  भारत-नेपाल अन्तर्राष्ट्रीय बॉर्डर चैक पोस्ट का डीआईजी कुमांऊ ने किया निरीक्षण।

इस दौरान जिला पर्यटन विकास अधिकारी,कीर्ति चन्द्र आर्य ने बताया की निकट भविष्य में धार्मिक पर्यटन बढने की बहुत ज्यादा सम्भावना है, इस योजना के अन्तर्गत स्थानीय होम स्टे संचालकों को जोडा जायेगा, जिसे स्थानीय स्तर पर पलायन रूकेगा एवं लोगों को स्वरोजगार प्राप्त होगा, जिससे सभी पंजीकृत स्थानीय होम स्टे स्वामियों को इसका लाभ मिलेगा तथा यात्रियों द्वारा रात्रि विश्राम भी स्थानीय होम स्टे में किया जायेगा। अगला बैच दिनांक 03 अप्रैल 2024 को नैनीसैनी एयरपोर्ट पिथौरागढ से संचालित किया जायेगा साथ ही आगमी15 अप्रैल 2024 से 10 मई 2024 तक आदि कैलाश एवं ओम पर्वत की 05 दिवस 04 रात्रि की यात्रा करवायी जायेगी, जो इस प्रकार है प्रथम दिवस-दिल्ली से पिथौरागढ की यात्रा सडक मार्ग द्वारा,द्वितीय दिवस- पिथौरागढ से गुंजी हैली द्वारा,तृतीय दिवस- गुंजी ज्योंलिंगकांग तक की यात्रा हैली के माध्यम से करवायी जायेगी, इसके अलाव ए०टी०बी० के माध्यम से पार्वती सरोवर, शिव पार्वती मन्दिर एवं आदि कैलाश के दर्शन करवाने के उपरान्त पर्यटकों को हैली द्वारा गुंजी वापस लाया जायेगा,चतुर्थ दिवस- गुंजी से नाबीढांग हैली द्वारा ले जाकर वहां ओम पर्वत दर्शन के उपरान्त नाबी / गुंजी / नपल्व्यू में रात्रि विश्राम करवाया जायेगा,पंचम दिवस- गुंजी से पिथौरागढ़ हैली द्वारा पर्यटन को यात्रा करवाई जाएगी।
इस अवसर पर यात्रा करने वाले सयुंक्त मजिस्ट्रेट आशीष कुमार मिश्रा,व्यासदेव राणा,
जनकृत आचार्य,आचार्य एकता,यवन मेहता
भावनाबेन मेहता,रमाबेन रावल,जिगनेषा रावल
आनंद गोखले,अपूर्व गोखले,अपर्णा गोखले शामिल थे।

Continue Reading

More in उत्तराखण्ड

Trending News

Follow Facebook Page