Connect with us

आफत की बारिश- दूसरे दिन 23 लोगो को रेस्क्यू किया

उत्तराखण्ड

आफत की बारिश- दूसरे दिन 23 लोगो को रेस्क्यू किया

पिथौरागढ़– भारी बारिश से जनपद पिथौरागढ़ के तहसील धारचूला के उच्च हिमालयी क्षेत्र के सड़क मार्ग बंद हो जाने के फलस्वरूप क्षेत्र में फसे पर्यटकों को हवाई सेवा के माध्यम से जिला मुख्यालय एवं तहसील मुख्यालय धारचूला तक रैस्क्यू कराए जाने का कार्य दूसरे दिन सुक्रवार को भी जारी रहा। सुक्रवार को धारचूला के दारमा घाटी से 23 लोगों का रेस्क्यू किया गया। इसके अतिरिक्त एक गर्भवती महिला को धारचूला से पिथौरागढ़ लाया गया। रैस्क्यू कर सुरक्षित स्थानों पर लाए जाने पर पर्यटकों ने सरकार और जिलाधिकारी को का आभार व्यक्त किया गया।सुक्रवार को वायुसेना के एएलएच हेलीकॉप्टर की मदद से प्रशासन के द्वारा दूसरे दिन भी सीमांत के उच्च हिमालयी इलाकों में रेस्क्यू अभियान जारी रखा। जिसमें दारमा घाटी से वायुसेना के हेलीकॉप्टर से चार उड़ानों में 21 पर्यटक तथा 2 स्थानीय महिलाओं समेत कुल 23 लोगों को धारचूला लाया गया। धारचूला हेलीपैड में पहुँचने पर तहसील प्रशासन तथा 832 लाइट रेजिमेंट के अधिकारियों ने पर्यटकों का हालचाल जाना।


इसके अतिरिक्त गर्भवती महिला अंजू देवी को धारचूला से जिला चिकित्सालय पिथौरागढ़ लाया गया।
गुरुवार को दारमा घाटी के चल ग्राम में विगत 18 अक्टूबर को बर्फबारी से दबकर मरे दो लोगों के लिए जिला प्रशासन द्वारा पीएम और पंचनामा टीम को ढाकर हेलीपैड उतारा गया था। टीम द्वारा शुक्रवार को मृतकों का पीएम और पंचनामा कार्य पूर्ण कर लिया गया।
जिलाधिकारी पिथौरागढ़ डॉ आशीष चौहान ने अवगत कराया कि अन्य लोगों का रैस्क्यू कार्य शनिवार को भी जारी रहेगा।

यह भी पढ़ें -  भारत-नेपाल अन्तर्राष्ट्रीय बॉर्डर चैक पोस्ट का डीआईजी कुमांऊ ने किया निरीक्षण।

Continue Reading

More in उत्तराखण्ड

Trending News

Follow Facebook Page