Connect with us

इस जिले में गांव गांव जाकर प्रत्येक बच्चे का होगा स्वास्थ्य परीक्षण।

उत्तराखण्ड

इस जिले में गांव गांव जाकर प्रत्येक बच्चे का होगा स्वास्थ्य परीक्षण।

पिथौरागढ़– जिला कार्यालय सभागार में राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी डॉ आशीष चौहान ने कहा कि जिले में रैपिड टीम गठित कर एक सप्ताह के भीतर गांव गांव जाकर प्रत्येक बच्चे का स्वास्थ्य परीक्षण कराएं, जो बच्चे किसी गंभीर बीमारी से ग्रसित हैं, और उन्हें तत्काल ईलाज की आवश्यकता है तो उनके हायर सेंटर में उपचार किए जाने हेतु चिकित्सा विभाग तत्काल व्यवस्था करें। जिलाधिकारी ने कहा कि बच्चे हमारा भविष्य है, इस हेतु उन्हें स्वस्थ रखना स्वास्थ्य विभाग की पूर्ण जिम्मेदारी है। गांव-गांव जाकर प्रत्येक बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण किया जाय। जो बच्चे बीमार हैं उनका ससमय इलाज किया जाय। सर्वे कार्य को स्वास्थ्य, शिक्षा एवं बाल विकास विभाग आपसी समन्वय से पूर्ण करें। इस हेतु टीमों का गठन कर गांव गांव जाकर बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण कराएं।

जिलाधिकारी ने जिले के वनराजि क्षेत्र में बच्चों के स्वास्थ्य परीक्षण व स्कूलों में प्रवेश के सम्बंध में स्वास्थ्य एवं शिक्षा विभाग से जानकारी ली गई। जिलाधिकारी ने कहा कि सभी वनराजि गांवों में मेडिकल कैम्प लगाते हुए प्रत्येक व्यक्ति का स्वास्थ्य परीक्षण कराते हुए बच्चों में अगर किसी प्रकार की गंभीर बीमारी है तो उन्हें तत्काल ईलाज करने हेतु हायर सेंटर भेजा जाय।

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड उच्च न्यायालय स्थानांतरण कुमाऊं-गढ़वाल का विषय न बने।

जिलाधिकारी ने मुख्य शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिए कि वनराजि गांवों के जितने भी बच्चे हैं, उनका प्रवेश आश्रम पद्धति विद्यालय बलुवाकोट में अनिवार्य रूप से कराया जाय ड्राप ऑउट बच्चों को पुनः स्कूल में प्रवेश दिलाए जाने हेतु प्रत्येक राजि गांव हेतु एक अधिकारी के नेतृत्व में टीम गठित कर प्रवेश की कार्यवाही की जाय। इस कार्य में शिक्षा विभाग के साथ समाज कल्याण व बाल विकास विभाग भी समन्वय स्थापित कर कार्य करेंगे। जिलाधिकारी ने मुख्य शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिए कि वह एक सप्ताह के भीतर प्रत्येक वनराजि गांव में टीम भेजकर बच्चों का आश्रम पद्धति विद्यालय में प्रवेश की सूचना की जानकारी उपलब्ध कराएंगे। जिलाधिकारी ने कहा कि एक भी बच्चा शिक्षा ग्रहण करने से न छूटने पाय।
बैठक में जिला विकास अधिकारी गोपाल गिरी,जिला कार्यक्रम अधिकारी बाल विकास संजय गौरव, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ हेमंत मर्तोलिया,जिला शिक्षा अधिकारी ए के गुसाँई समेत अन्य उपस्थित रहे।

Continue Reading

More in उत्तराखण्ड

Trending News

Follow Facebook Page