Connect with us

बिनसर वन्यजीव अभयारण्य इको-सेंसिटिव जोन घोषित

उत्तराखण्ड

बिनसर वन्यजीव अभयारण्य इको-सेंसिटिव जोन घोषित

बागेश्वर – चीड और बांज के घने वन के लिए समृद्ध उत्तराखंड के कुमांऊ क्षेत्र की शांत वादियों में स्थित बिनसर वन्यजीव अभयारण्य को पारिस्थितिकी संवेदी क्षेत्र (इको-सेंसिटिव जोन) घोषित कर दिया गया है। प्रदेश के मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक जेएस सुहाग ने बताया कि केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय ने इस संबंध में अधिसूचना जारी कर दी है।अल्मोड़ा और बागेश्वर जिलों में पड़ने वाले बिनसर अभयारण्य की सीमा के चारों तरफ तीन किलोमीटर की दूरी तक पारिस्थितिकी संवेदी क्षेत्र घोषित किया गया है।

अभयारण्य में विभिन्न मूल्यवान हिमालयी जड़ी बूटियां एवं पादप जैसे वन तुलसी, थुनेर, तेजपात और सफेद मुसली पाई जाती हैं। इसके अलावा, यहां जंगली जानवर जैसे भालू, तेंदुआ और साही भी बहुतायत में हैं। सुहाग ने कहा कि पारिस्थितिकी संवेदी जोन घोषित होने से इस क्षेत्र के वन संरक्षण में मदद मिलेगी।

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड उच्च न्यायालय स्थानांतरण कुमाऊं-गढ़वाल का विषय न बने।

करीब 76.01 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैले पारिस्थितिकी संवेदी क्षेत्र में अब प्रदूषण वाले उद्योगों को नहीं लगाया जा सकेगा और न ही पहले से मौजूद ऐसे उद्योगों को विस्तार की अनुमति होगी। इसके अलावा, स्थानीय निवासियों की मकान निर्माण या मरम्मत आदि घरेलू जरूरतों के लिए जमीन की खुदाई के अतिरिक्त अन्य सभी प्रकार की खनन गतिविधियां प्रतिबंधित होंगी।

यह भी पढ़ें -  तन, मन और आत्मा का संगम 'योग है' - मुख्यमंत्री धामी

इस क्षेत्र में बडी जलविद्युत परियोजनाएं भी नहीं लगाई जा सकेंगी। नयी आरा मिलों और ईंट भट्टों की स्थापना पर भी प्रतिबंध रहेगा। हालांकि, पारिस्थितिकी क्षेत्र में 20 गांव भी आ रहे हैं और माना जा रहा है कि इससे भविष्य में विकास के मुद्दों और वन संरक्षण के प्रयासों में टकराव हो सकता है।

Continue Reading

More in उत्तराखण्ड

Trending News

Follow Facebook Page