Connect with us

गूंजी में तीन दिवसीय शिवोत्सव का शुभारंभ

उत्तराखण्ड

गूंजी में तीन दिवसीय शिवोत्सव का शुभारंभ

पहले दिन रंग संस्कृति का छोलिया तथा छोलिया दल नैनीसैनी के कलाकारों की प्रस्तुति मुख्य आकर्षक रही।

पिथौरागढ़(गुंजी)- शिवोत्सव 2021 का विधिवत शुभारंभ शुक्रवार को तहसील धारचूला के व्यास घाटी के स्थान गुंजी में व्यास ऋषी मंदिर के प्रांगण में पूजा अर्चना कर मुख्य अतिथि विधायक धारचूला हरीश धामी द्वारा किया गया। जिला प्रशासन, रंग कल्याण संस्था एवं व्यास मेला समिति तथा अन्य संस्थाओं आदि के सहयोग से आयोजित तीन दिवशीय शिवोत्सव के शुभारंभ अवसर पर ग्राम सभा गुंजी,नाबि, नपलचु,के साथ साथ बरम कनार के ढोल व नैनीसैनी के छोलिया दल द्वारा झांकी निकाली गई। जिसकी स्थानीय जनता द्वारा प्रशंशा की गई, तत्पश्चात देव डांगरों द्वारा पूजा अर्चना की गई।

इसके उपरांत मुख्य अतिथि माननीय विधायक धारचूला हरीश धामी एवं विशिष्ट अतिथि सेना के कर्नल जतिन गुलेरी तथा अन्य अतिथियों को प्रशासन की ओर से रंग कल्याण संस्था के प्रतिनिधियों द्वारा पगड़ी (ब्यठोलो)पहनाई गई तथा महिला अतिथियों को साल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया। इसके उपरांत दीप प्रज्वलित कर शिवोत्सव का शुभारंभ किया गया।
इस अवसर पर मुख्य अतिथि एवं विशिष्ट अतिथि के द्वारा मोटर बाइकिंग रैली को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया।

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड उच्च न्यायालय स्थानांतरण कुमाऊं-गढ़वाल का विषय न बने।

चद्रमोहन पांडेय के नेतृत्व में 11 सदस्यीय बाइकर्स द्वारा 26 किलोमीटर नाभीढांग( ओम पर्वत)की यात्रा पूरी कर बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ तथा पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया गया। इसके उपरांत बॉलीबॉल मैच का भी शुभारंभ किया गया प्रथम दिवस पर बॉलीबॉल मैच ग्राम सभा कुटी एवं गुंजी के बीच मैच का आयोजन कराया गया। इसके अतिरिक्त विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी आयोजन किया गया। शिवोत्सव के शुभारंभ अवसर पर माननीय विधायक हरीश धामी ने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा जो यह शिवोत्सव व अमृत महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है, वह सराहनीय है, आने वाले समय में इसे और अधिक भब्य किया जाएगा।

यह भी पढ़ें -  भारत-नेपाल अन्तर्राष्ट्रीय बॉर्डर चैक पोस्ट का डीआईजी कुमांऊ ने किया निरीक्षण।

उन्होंने मेले के आयोजन हेतु जिलाधिकारी पिथौरागढ़ डॉ आशीष चौहान की इस पहल की सराहना की गई। उन्होंने कहा कि मेले में वीर सैनिकों को भी सम्मान किया जा रहा है जो सीमाओं में अपनी सेवा कर रहे हैं इसी प्रकार यहां के सीमांत वासी भी सीमा के प्रहरी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यहां की संस्कृति अपने आप में एक अलग संस्कृति है जो सभी को अपनी ओर आकर्षित करती है।

यह भी पढ़ें -  बढ़ेगा प्रशासकों का कार्यकाल,अक्टूबर में होंगे नगर निकाय चुनाव ?


शिवोत्सव के शुभारंभ अवसर पर सीडीओ अनुराधा पाल, सेना के 18 ग्रिनेट के कर्नल जतिन गुलेरी, सयुंक्त मजिस्ट्रेट पिथौरागढ़ नन्दन कुमार,आईएफएस अभिमन्यु,प्रधान गुंजी सुरेश गुंज्याल, पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष अशोक नबियाल,सरपंच गुंजी लक्ष्मी गुंज्याल, देव डांगर पान सिंह गुंज्याल, कृष्णा गर्ब्याल, रमेश कुटियाल,दीवान सिंह नपलच्याल, रूप सिंह नबियाल, महेन्दर परिहार,समेत क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि,गणमान्य नागरिक, संस्कृति एवं रंग कर्मी तथा व्यास घाटी समेत विभिन्न क्षेत्रों के प्रतिनिधि आदि उपस्थित रहे। इससे पूर्व सभी लामाओं को सम्मानित किया गया। मेले को सफलतापूर्वक संपन्न कराने में स्थानीय ग्रामीणों के साथ ही सेना,
आईटीटीबीपी,एसएसबी, द्वारा भी पूर्ण सहयोग प्रदान किया जा रहा है।
शनिवार 30 अक्टूबर को प्रशिद्ध गायक बीके सामंत,गोविन्द दिवारी,प्रकाश रावत,जितेंदर तोमकयाल नारायण सोराड़ी,समेत स्थानीय कलाकारों द्वारा प्रस्तुति दी जाएंगी।तथा शिव स्तुति आकर्षक रहेगी

Continue Reading

More in उत्तराखण्ड

Trending News

Follow Facebook Page