Connect with us

भारत-नेपाल सीमा समन्वय समिति बैठक, दोनों देशों के अधिकारियों के बीच क्या हुई चर्चा

उत्तराखण्ड

भारत-नेपाल सीमा समन्वय समिति बैठक, दोनों देशों के अधिकारियों के बीच क्या हुई चर्चा

पिथौरागढ़– भारत के जनपद पिथौरागढ़ में स्थित विकास भवन सभागार में जिलाधिकारी पिथौरागढ़ डा0 आशीष चौहान की अध्यक्षता में दोनों के देशों भारत के जनपद पिथौरागढ़ तथा नेपाल के जनपद दार्चुला तथा बैतड़ी जिले के विभिन्न एजेण्डा बिंदुओं पर विस्तारपूर्वक चर्चा की गयी। जिसमें दोनों देशों की सीमा पर स्थापित सुरक्षा एंजेसियों एवं स्थानीय पुलिस के मध्य आपसी समन्वय स्थापित करने,आवागमन करने वाले नागरिकों से कोविड-19 नियमों का अनुपालन कराये जाने, एक दूसरे देश में प्रवेश पर अपने साथ अपने राष्ट्र से संबंधित कोई एक पहचान पत्र प्रदर्शित करने की अनिवार्यता के संबंध में विचार विमर्श करने के साथ ही दोनों देशों की सीमा पर सघन चैकिंग एवं पेट्रोलिंग एवं सूचनाओं का आदान प्रदान करने, जनपद के विभिन्न अभियोगों में वांछित अभियुक्तों की गिरफ्तारी में सहयोग दिये जाने, दोनों राष्ट्रों के सीमावर्ती जनपदों के पुलिस/प्रशासनिक एजेन्सियों में समन्वय स्थापित करने, जाली नोटों की तस्करी की रोकथाम में सहयोग,अवैध आवागमन के संबंध में विचार विमर्श,अवैध मादक पदार्थों/मानव तस्करी,वन्य जीवों की तस्करी की रोकथाम, सीमावर्ती क्षेत्रों में होने वाली महत्वपूर्ण घटना के संबंध में सूचनाओं का आदान-प्रदान करने, दोनों राष्ट्रों के मध्य स्थापित मैत्री संबंधों में प्रगाढ़ता लाने के संबंध में बैठक में दोनों देशों के अधिकारियों द्वारा विचार-विमर्श करते हुए एक दूसरे को पूर्व की भांति सहयोग प्रदान करने का भरोसा दिया गया।

बैठक में भारत-नेपाल राष्ट्रों के मध्य स्थित छारछुम- दार्चुला मोटर पुल एवं ऐलागाड़ झूलापुल का निर्माण किए जाने पर भी बैठक में चर्चा की गई। बैठक में जिलाधिकारी पिथौरागढ़ डॉ आशीष चौहान द्वारा नेपाल के दोनों जिलों से आए अधिकारियों को अवगत कराया कि निकट भविष्य में पिथौरागढ़ जनपद में आगामी विधानसभा सामान्य निर्वाचन 2022 सम्पन्न होना है जिसके मद्देनजर कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने के साथ ही शांति व्यवस्था आदि बनाए जाने में सहयोग की अपील करते हुए उक्त संबंध में दोनों देशों के अधिकारियों के मध्य विचार विमर्श करते हुए चर्चा करते हुए सहयोग प्रदान करने की बात कही गई

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड उच्च न्यायालय स्थानांतरण कुमाऊं-गढ़वाल का विषय न बने।


बैठक में नेपाल के दार्चुला के अधिकारियों द्वारा उनके राष्ट्र के दो ग्राम सभाओं टिंकर तथा छांगरु में होने वाली जनगणना हेतु जनगणना टीम को भारत के सड़क मार्ग से भेजे जाने हेतु अनुमति प्रदान किए जाने हेतु भारत से की गईं कार्यवाही की जानकारी प्राप्त की गई। उक्त संबंध में जिलाधिकारी पिथौरागढ़ डॉ आशीष चौहान ने अवगत कराया कि इस संबंध में उनकी ओर से उत्तराखंड शासन के माध्यम से भारत सरकार विदेश मंत्रालय को पत्राचार किया गया है। विदेश मंत्रालय से जो भी दिशा निर्देश प्राप्त होंगे उससे शीघ्र ही उन्हें अवगत कराया जाएगा। बैठक में दोनों देशों की ओर से काली नदी में मलधार,गसकु तथा अन्य स्थानों में अवैध रूप से ट्यूब आदि से हो रहे अवैध आवागमन की रोकथाम हेतु इन स्थानों में झूलापुल निर्माण किए जाने हेतु शीघ्र ही दोनों देशों के अधिकारी संयुक्त निरीक्षण कर प्रस्ताव तैयार करेंगे। बैठक में भारत के तहसील धारचूला के घटखोला में काली नदी में नेपाल की ओर स्थित बड़े बोल्डर जिससे हो रहे खतरे व भूकटाव की रोकथाम के सम्बंध में भी दोनों देशों के अधिकारियों के मध्य चर्चा करते हुए निर्णय लिया गया कि शीघ्र ही अधिशाषी अभियंता सिंचाई धारचूला , प्रमुख जिल्लाधिकारी दार्चुला के साथ समन्वय स्थापित कर संयुक्त निरीक्षण करते हुए सुरक्षा हेतु प्रस्ताव तैयार कर कार्यवाही सुनिश्चित करेंगे।

यह भी पढ़ें -  बढ़ेगा प्रशासकों का कार्यकाल,अक्टूबर में होंगे नगर निकाय चुनाव ?

बैठक में दोनों देशों के अधिकारियों के बीच सहमति बनी कि प्रत्येक वर्ष मानसून काल से पूर्व दोनों के अधिकारी आपस में सीमा क्षेत्र में घटित होने वाली आपदा से निपटने हेतु पूर्वाभ्यास करते हुए एक दूसरे को सूचनाओं का आदान-प्रदान व सहयोग देंगे। बैठक में धारचूला में नेपाल को जोड़ने वाले झूलापुल की जर्जर स्थिति को ठीक करने के मामले पर जिलाधिकारी पिथौरागढ़ द्वारा अधिशासी अभियंता लोनिवि अस्कोट को यथाशीघ्र ही झूलापुल का निरीक्षण कर मरम्मत का प्रस्ताव तैयार करते हुए कार्यवाही के निर्देश दिए। बैठक में नेपाल से आए अधिकारियों द्वारा भारत में आपदा के दौरान चलाए जाने वाले हैली रैस्क्यू ऑपरेशन की पूर्व सूचना नेपाल प्रशासन को उपलब्ध कराए जाने का प्रकरण रखा गया जिस पर निकट भविष्य में उक्त सम्बंध में जानकारी सांझा करने का आश्वासन भारत की ओर से दिया गया। इसके अतिरिक्त बैठक में दोनों देशों के सीमावर्ती जिले में किसी भी प्रकार की घटना की सूचना तत्काल एक दूसरे को प्रदान किए जाने हेतु व्हाट्सएप ग्रुप में आवश्यक विभागों के अधिकारियों को जोड़ते हुए सूचनाओं का आदान प्रदान करने पर दोनों देशों के अधिकारियों के बीच सहमति बनी
बैठक से पूर्व जिलाधिकारी पिथौरागढ़ डॉ आशीष चौहान द्वारा मित्र राष्ट्र नेपाल के दोनों जिलों से आए अधिकारियों का बुके देकर स्वागत किया गया।
बैठक में जनपद पिथौरागढ़ से जिलाधिकारी डा0 आशीष चौहान, मुख्य विकास अधिकारी अनुराधा पाल, अपर जिलाधिकारी एफआर चौहान, वनाधिकारी अभिमन्यु, बीआरओ के कमांडर कर्नल एन के शर्मा, संयुक्त मजिस्ट्रेट नंदन कुमार,अधीक्षण अभियंता सिंचाई विकास श्रीवास्तव, उप जिलाधिकारी धारचूला अनिल कुमार शुक्ला, व जनपद दार्चूला से प्रमुख जिल्ला अधिकारी सिद्वराज जोशी, सशस्त्र प्रहरी उपनिरिक्षक नरेन्द्र बम, प्रहरी नायब उपनिरिक्षक मनोहर प्रसाद भट्ट, प्रमुख अनुसन्धान अधिकृत महेश प्रसाद अवस्थी, शाखा अधिकृत, सीमा प्रशासन कार्यालय मोहन सिंह धामी व कार्यालय प्रमुख दार्चूला भन्सार कार्यालय चक्रदेब भट्ट, जिल्ला बैतड़ी से प्रमुख
जिल्लाधिकारी राजेन्द्र देव पांडेय, प्रभारी ना.उपनिरीक्षक रमेश बहादुर पाल, गणेश बहादुर शाह, देवेन्द्र कुमार थापा समेत दोनों देशों,भारत के पिथौरागढ़ तथा नेपाल के दार्चुला व बैतड़ी जिले के विभिन्न उच्चाधिकारी उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें -  भारत-नेपाल अन्तर्राष्ट्रीय बॉर्डर चैक पोस्ट का डीआईजी कुमांऊ ने किया निरीक्षण।

Continue Reading

More in उत्तराखण्ड

Trending News

Follow Facebook Page