Connect with us

प्रदेश के साथ ही जिले में भारी बरसात, ग्राउंड जीरो पर DM

उत्तराखण्ड

प्रदेश के साथ ही जिले में भारी बरसात, ग्राउंड जीरो पर DM

पिथौरागढ़– रविवार रात से ही जिलेभर में बरसात जारी है। बरसात के कारण किसी भी प्रकार की आपदा से निपटने हेतु सभी अधिकारियों, सुरक्षा एजेंसियों को अलर्ट कर दिया गया, साथ ही जिलाधिकारी द्वारा देर सायं विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ वर्चुअली बैठक कर सभी तैयारियां दूरूस्त रखे जाने के निर्देश देते हुए तहसील स्तर पर आपदा नियंत्रण कक्ष्यों में अतिरिक्त कार्मिकों की भी तैनाती की गई।

जिलाधिकारी द्वारा सोमवार को प्रातः ही जिला आपदा प्रबन्धन
प्राधिकरण कार्यालय में पंहुचकर जनपद अन्तर्गत
सभी तहसीलों में मौसम के दृष्टिगत वर्तमान स्थिति
का जायजा लिया गया तथा जिलाधिकारी द्वारा सभी तहसीलो में हो रही वर्षा के दृष्टिगत सभी उप जिलाधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि
सभी नदियों के जलस्तर पर निगरानी रखी जाए। बाधित सड़कों को तत्काल खोलने की कार्यवाही की जाए,तथा जनपद अन्तर्गत फसे पर्यटकों एवं यात्रियों का विवरण रख लिया जाय एवं फसे होने की स्तिथि में निकासी हेतु तत्परता
से आवश्यक कार्यवाही
की जाए।

यह भी पढ़ें -  बढ़ेगा प्रशासकों का कार्यकाल,अक्टूबर में होंगे नगर निकाय चुनाव ?

भूस्खलन से आवासीय भवन खतरे की जद में अथवा ध्वस्त होने पर ऐसे आवासों का विवरण
रख लिया जाए । जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिए कि अतिवृष्टि,नदी, नाले, बाढ़,भूस्खलसन से
खतरे की जद में आने वाले सभी परिवारों को
सुरक्षित स्थलों पर तत्काल शिफ्ट करने की कार्यवाही
की जाये। जिलाधिकारी द्वारा दिए गए निर्देशानुसार जनपद में बंद विभिन्न सड़कों को खोले जाने का कार्य पूरे दिन विभागों द्वारा किया गया। विभिन्न बंद सड़कों को आवागमन हेतु खोला गया। जिले में लगातार बारिश जारी है।

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड उच्च न्यायालय स्थानांतरण कुमाऊं-गढ़वाल का विषय न बने।


जिलाधिकारी डॉ आशीष चौहान द्वारा पुलिस क्षेत्राधिकारी अनिल मनराल व एन एच के अधिकारियों व कॉन्ट्रेक्टर के साथ पिथौरागढ़ से घाट राष्ट्रीय राजमार्ग जो भारी वर्षा से बंद हो गया था,उक्त मार्ग का स्थलीय निरीक्षण किया गया। उन्होंने एन एच के अधिकारियों को तत्काल मार्ग खोलने के निर्देश दिए। स्वयं जिलाधिकारी द्वारा मौके पर उपस्थित होकर गुरना के पास बंद सड़क मार्ग को खुलवाने का कार्य करवाया गया। जिलाधिकारी ने राजस्व,पुलिस एवं सड़क निर्माण विभाग के अधिकारियों को यह भी निर्देश दिए कि मार्ग में फसे सभी यात्रियों की सुरक्षा का विशेष ध्यान रखते हुए प्रशासन की ओर से उनके भोजन की निःशुल्क व्यवस्था भी कराई जाय।

यह भी पढ़ें -  भारत-नेपाल अन्तर्राष्ट्रीय बॉर्डर चैक पोस्ट का डीआईजी कुमांऊ ने किया निरीक्षण।

Continue Reading

More in उत्तराखण्ड

Trending News

Follow Facebook Page