Connect with us

जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति “दिशा” की बैठक, लोगो को सरकार की योजनाओं का मिले शत प्रतिशत लाभ-अजय टम्टा।

उत्तराखण्ड

जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति “दिशा” की बैठक, लोगो को सरकार की योजनाओं का मिले शत प्रतिशत लाभ-अजय टम्टा।

पिथौरागढ़– विकास भवन सभागार में जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति “दिशा” की बैठक की समीक्षा करते हुए समिति के अध्यक्ष सांसद अजय टम्टा द्वारा जनपद पिथौरागढ़ में संचालित केन्द्रीय सहायतित योजनाओं की समीक्षा करते हुए कहा कि केन्द्र सहायतित योजनाओं का लाभ प्रत्येक जनता तक पंहुचे इस हेतु जो भी कार्य होने हैं उन्हें समय पर पूर्ण किया जाय,इसके अतिरिक्त लाभार्थी परख जो भी योजनाएं हैं जिसमें मुख्य रूप से समाज कल्याण विभाग के माध्यम से दी जाने वाली पेंशन योजना है, उनका लाभ लाभार्थी तक समय पर पहुचाएं। उन्होंने सड़क निर्माण समेत विभिन्न कार्यदाई संस्थाओं को निर्देश दिए कि जो भी निर्माण कार्य वर्तमान में गतिमान हैं, उनमें और अधिक तेजी लाते हुए प्रत्येक दशा में आगामी दिसंबर माह तक पूर्ण करें। उन्होंने उद्योग विभाग को निर्देश दिए कि जिले में ओद्योगिक गतिविधियों के साथ ही स्वरोजगार को बढ़ाया जाए।उन्होंने कहा कि कौशल प्रशिक्षण के आयोजन अधिक से अधिक कराए जाय।

जिले में स्थानीय काष्ठकला जिसमें परंपरा कौशल को बढ़ाए जाने हेतु कौशल विकास के प्रशिक्षण हेतु प्रस्ताव तैयार करें। उन्होंने कहा कि जिले में विभिन्न स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा दिए जाने हेतु विभिन्न ग्रोथ सेन्टर खोले जाय,जिससे कि स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा मिले।
बैठक में सर्व प्रथम जिलाधिकारी डॉ आशीष चौहान द्वारा माननीय सांसद एवं विभिन्न अतिथियों का स्वागत करते हुए जिले में विभिन्न विभागों अंतर्गत संचालित केन्द्रीय योजनाओं की वर्तमान प्रगति से अवगत कराया।
समीक्षा के दौरान अवगत कराया कि जिले में महात्मा गाँधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारण्टी योजनान्तर्गत वित्तीय वर्ष 2021-22 में जनपद के समस्त विकास खण्डों में आतिथि तक 376 परिवारों को 100 दिन का रोजगार उपलब्ध कराया गया है । जिनमें विगत 02 माह में विकास खण्ड गंगोलीहाट में 31 तथा मूनाकोट में 24 परिवारों को 100 दिन का रोजगार उपलब्ध कराया गया है। वर्ष के अंत तक 100 दिन के रोजगार में अपेक्षित वृद्धि कर ली जायेगी।

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड उच्च न्यायालय स्थानांतरण कुमाऊं-गढ़वाल का विषय न बने।


जिलाधिकारी ने अवगत कराया कि जिले में शत प्रतिशत दिब्यांग व्यक्तियों को उनकी क्षमता के अनुरूप मनरेगा से रोजगार प्रदान किये जाने का लक्ष्य रखा गया है।
बैठक में जिला विकास अधिकारी ने अवगत कराया कि मनरेगा योजनान्तर्गत वर्तमान में आतिथि तक कुल 14077 कार्य स्वीकृत हैं, जिसमें से 3200 कार्य पूर्ण हो चुके हैं तथा शेष 10877 कार्य प्रगति पर हैं, जिन्हें वित्तीय वर्ष के अंत तक पूर्ण करा लिया जायेगा ।
बैठक में अवगत कराया कि एनआरएलएम योजना अंतर्गत का लक्ष्य 509 के सापेक्ष 652 प्रार्थना पत्र बैंकों को प्रेषित करते हुए 340 समूहों के प्रार्थना पत्र बैंकों द्वारा स्वीकृत कर 322 समूहों को ऋण वितरण कर लिया गया है। शेष माह नवम्बर, 2021 तक वितरित कर लिये जायेंगे ।
जिले में पंडित दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल विकास योजना की समीक्षा के दौरान जिला थीमेटिक विशेषज्ञ द्वारा बताया गया कि वर्तमान में पिथौरागढ़ में संचालित सभी केन्द्रों में अध्ययनरत युवक / युवतियों का प्रशिक्षण गतिमान है । इसके अतिरिक्त बुद्धा वेलफेयर सोसाइटी एवं इन्टरनेशनल स्किल अकादमी द्वारा भी युवक/युवतियों का मोबिलाइजेशन करते हुए लगभग 150 युवक / युवतियों को वर्तमान में प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है ।
बैठक में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की समीक्षा करते हए अधिशासी अभियन्ता पी.एम.जी.एएस.वाई. नोडल विभाग नागेन्द्र बहादुर ने अवगत कराया है कि वर्ष 2021-22 में लगातार अत्यधिक वर्षा होने के कारण मानसूनी वर्षा से क्षतिग्रस्त मोटर मार्गों के निर्माण में समय अधिक लगने के कारण मूल निर्माण कार्य में विलम्ब हुआ है वर्षाकाल में हुई क्षतियों के रेस्टोरेशन के उपरान्त कार्यों की भौतिक प्रगति बढ़ाई जा सकेगी। वर्तमान में 24.37 किमी० की प्रगति प्राप्त हो चुकी है। उक्त संबंध में माननीय सांसद ने कहा कि दिसंबर माह तक वर्तमान में संचालित कार्यों को पूर्ण करें।

यह भी पढ़ें -  बढ़ेगा प्रशासकों का कार्यकाल,अक्टूबर में होंगे नगर निकाय चुनाव ?


बैठक में प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी की समीक्षा के दौरान अवगत कराया कि लक्ष्य 162 आवास के सापेक्ष वर्तमान तक 30 आवासों का निर्माण कार्य पूर्ण हो गया है तथा स्वच्छता अभियान के अंतर्गत शत प्रतिशत उपयोग कर लिया गया है। व्यक्तिगत शौचालय का लक्ष्य 1595 के सापेक्ष 1534 सौचालयों का
निर्माण पूर्ण कर लिया गया है शेष 61 शौचालय निर्माणाधीन हैं जिन्हें माह की पूर्ति सितम्बर तक पूर्ण कर लिया जायेगा ।
बैठक में जल जीवन मिशन की समीक्षा के दौरान अवगत कराया कि जिन गांवों में पेयजल के पर्याप्त स्रोत उपलब्ध हैं उनमें निर्मित / नव निर्मित पेयजल योजना से पाइप लाइन के माध्यम से ग्रामवासियों को पेयजल उपलब्ध कराया जा रहा है तथा 539 ग्रामों की 263 फेज-2
के डीआईआर गठित कर
234 डी०पी०आर० स्वीकृत की जा चुकी है। 222 ग्रामों हेतु 6 मल्टी स्टेज पम्पिंग पेयजल योजनाओं के प्रस्ताव शासन को प्रेषित की गयी हैं ।
इसके अतिरिक्त जल जीवन मिशन द्वितीय चरण के अन्तर्गत 2020-21 में जनपद पिथौरागढ़ में 887 राजस्व ग्रामों के लक्ष्य के सापेक्ष 256 राजस्व ग्रामों की गाँवों डी०पी०आर० गठित कर 250 राजस्व ग्रामों की डी०पी०आर० तकनीकी समिति से अनुमोदत कराये गये हैं एवं 180 राजस्व ग्रामों की निविदा कराकर कार्य पूर्ण कर 24 राजस्व ग्रामों के कार्यादेश पूर्ण कर लिये गये हैं ।
बैठक में अवगत कराया कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के अन्तर्गत अब तक आठ किस्त दी जा चुकी हैं। जनपद के अन्तर्गत कुल 60959 कृषकों का पंजीकरण करते हुए 59181 कृषकों को योजना से लाभान्वित किया जा चुका है। योजना में वंचित पात्र कृषकों के की पंजीकरण हेतु क्षेत्रीय कर्मचारियों के माध्यम से व्यापक प्रचार-प्रसार किया जा रहा है । इसके अतिरिक्त परम्पारागत कृषि विकास योजना के अन्तर्गत विभाग को प्राप्त रू० 171.00 लाख की धनराशि का शत-प्रशित उपयोग कर जैविक कलस्टरों का गठन कर कृषकों को प्रशिक्षण एवं जैविक कृषि निवेश उपलब्ध कराने की कार्यवाही की गयी है
बैठक में स्वास्थ्य विभाग द्वारा बताया गया है कि पुनरीक्षित क्षय नियंत्रण कार्यक्रम के अन्तर्गत ग्राम पंचायतों में विशेष अभियान चलाकर 900 लक्ष्य के सापेक्ष शेष 151 की पूर्ति की जा चुकी है ।
बैठक में मेडिकल कॉलेज पिथौरागढ़ के निर्माण के सम्बंध में अवगत कराया कि शासन द्वारा एन०पी०सी०सी० को कार्यदायी संस्था चयनित किया गया है। जिस हेतु शासन से धनराशि निर्गत की जानी है। प्राचार्य मेडिकल कालेज द्वारा अवगत कराया कि मेडिकल कॉलेज के निर्माण हेतु 455 करोड़ के सापेक्ष शासन द्वारा 75 करोड़ की प्रथम किश्त स्वीकृत कर दी गई है।। बैठक में जिले में कोविड-19 के संक्रमण की रोकथाम आदि हेतु किए जा रहे कार्यों की भी समीक्षा की गई।
बैठक में दर्जा राज्य मंत्री उत्तराखंड सरकार शमशेर सिंह सत्याल,अध्यक्ष जिला पंचायत दीपिका बोहरा विधायक चंद्रा पंत,क्षेत्र प्रमुख कनालीछीना सुनीता कन्याल, बेरीनाग विनीता बाफिला,सदस्य जिला पंचायत नंदन बाफिला,मुख्य विकास अधिकारी अनुराधा पाल,पीडी डीआरडीए आशीष पुनेठा, प्रशिक्षु आई एफ एस अभिमन्यु समेत विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।

Continue Reading

More in उत्तराखण्ड

Trending News

Follow Facebook Page