Connect with us

थरकोट झील निर्माण की लागत में डेढ़ करोड़ की बढ़ोतरी

उत्तराखण्ड

थरकोट झील निर्माण की लागत में डेढ़ करोड़ की बढ़ोतरी

पिथौरागढ़– बहुप्रतीक्षित थरकोट झील निर्माण की लागत में डेढ़ करोड़ की बढ़ोतरी हो गई है। झील अब नए वित्तीय वर्ष में ही अस्तित्व में आ पाएगी।जिला मुख्यालय से सात किमी. दूर थरकोट में दो वर्ष पूर्व झील निर्माण का कार्य शुरू किया गया था, दिसंबर 2022 तक इसे पूरा कर लेने का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन बीते अक्टूबर माह में हुई भारी बारिश के चलते हुए भूस्खलन से झील स्थल मलबे से भर गया। इससे सिचाई विभाग को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। मलबा हटाने में ही विभाग को दो माह का समय लग गया। झील स्थल में मलबा भरने, जीएसटी लागत बढ़ने और मुआवजे के चलते झील की लागत में करीब डेढ़ करोड़ की बढ़ोतरी हो गई है। पहले झील के लिए 29.73 करोड़ की धनराशि प्रस्तावित थी, जिसे अब बढ़कर 31.25 करोड़ कर दिया गया है।

झील स्थल में मलबा भरने से विभाग का कार्य करीब चार माह पिछड़ गया है। अब अप्रैल माह तक सिविल वर्क पूरा होगा। इसके बाद एक से डेढ़ माह झील में पानी भरने में लगेगा। जून 2022 में ही झील अस्तित्व में आ पाएगी। थरकोट में झील निर्माण से जिला मुख्यालय के पास नया पर्यटन स्थल तैयार होगा और जिले में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। ”अधिशासी अभियंता, सिचाई विभाग फरहान अहमद का कहना है कि जीएसटी और मुआवजे के चलते झील निर्माण में डेढ़ करोड़ की बढ़ोतरी हुई है। काम तेजी से चल रहा है। मौसम अनुकूल रहा तो अप्रैल माह तक सिविल वर्क पूरा कर लिया जाएगा। जून माह में झील अस्तित्व में आ जाएगी”।

यह भी पढ़ें -  बढ़ेगा प्रशासकों का कार्यकाल,अक्टूबर में होंगे नगर निकाय चुनाव ?

– फरहान खान,

Continue Reading

More in उत्तराखण्ड

Trending News

Follow Facebook Page